मेहनत तो करनी पड़ेगी चाहे विद्यार्थी जीवन में आराम से या मरते दम तक परेशान होकर, Padhai Me Man Kaise Lagaye

पढाई में मन कैसे लगाएं। Padhai me man kaise lagaye

Padhai me man kaise lagayen, padhai me man lagane ke upay
Padhai me man kaise lagaye

अक्सर हम सब विद्यार्थी पढाई से कतराते है या थोड़ी मेहनत करने के बाद ये कहते है की हमे जॉब मिल नही रही या और यू ही जब तक उम्र रहती है तब तक पढने का नाटक करते रहते है.

क्या हम ऐसा करके अपने लिए अच्छा कर रहे है आपका उत्तर भी संभवतः नही ही होगा, तो हम ऐसा क्यों करते है आइये हम देखते है की ऐसा करने के बाद हमे जीवन भर क्या करना होगा और हमें padhai me man kaise lagana chahiye


क्या करें जिससे पढाई में मन लगे। Padhai me man lagane ke upay

एक बात हमेशा ध्यान रखे Agar padhai me man lagana hai :

'मेहनत तो करनी पड़ेगी चाहे विद्यार्थी जीवन के 21 वर्ष आराम से या मरते दम तक परेशान होकर'

आओ अब हम इसका विश्लेषण करते है और Padhai me man lagane ka best tarika देखते है।

शुरुआत के 21 वर्ष की आयु के विषय में हम पहले चर्चा करते है :

जन्म के बाद शुरुआत के 4 वर्ष तो हम माँ बाप के गोदी में ही बिता देते है उसके बाद स्कूल जाना शुरू होता है और स्कूल में शुरुआत के 3 वर्ष LKG, UKG etc. में भी मस्ती के साथ थोडा सा होमवर्क होता है उसके बाद पढाई शुरू होती है जिसमे भी आठवीं तक तो हम बिना अधिक चिंता के पढाई करके पास हो जाते है नवी कक्षा के बाद से हमारी पढाई जोर पकडती  है क्योकि बोर्ड परीक्षा होती है सबको Exam me percentage बढ़ानी होती है और इसके बाद हमे, जब तक कुछ करने लायक न हो जाये, तब तक padhai करनी पड़ती है

Related: पढाई  में मन कैसे लगाएं। भाग- 2

कुल मिलाकर हम 21 वर्ष तक या 8वीं के बाद सिर्फ 8 वर्ष मेहनत से पढाई करके अपना भविष्य सफल एवं सुरक्षित बना सकते है। वो चाहे सरकारी नौकरी के माध्यम से या फिर कोई अच्छी प्राइवेट नौकरी करके या फिर अपना बिज़नस करके।

Padhai me man kaise lagaye: padhai me man lagane ka best tarika




अब अगर इस 21 वर्ष तक पढाई लिखाई नही करते तो हमें जीवन यापन करने लिए क्या करना पड़ेगा अब देखते है।

इस बात को अगर आपने से समझ लिया तो padhai me aapka man khoob lagega

21 वर्ष तक के सारे खर्चे लगभग माँ बाप देख लेते है उसके बाद जिम्मेदारियां खुद पर आती है अब जीवन यापन के लिए कुछ तो करना ही पड़ेगा। क्योंकि आपने अपना 21 वर्ष ऐसे ही बिता दिया है तो आपको आपकी योग्यता के अनुसार कोई मजदूरी करना पड़ सकता है या फिर अगर कुछ खेत है तो खेती कर सकते है लेकिन अब खेती से परिवार चलाना बहुत आसान नही है। चलो मान लेते है आपके पास एक एकड़ खेत है तो आप उसमे अपने परिवार के लिए खाने भर के लिए अनाज तैयार कर लेंगे पर अब अगर शादी हो गयी है तो बच्चे भी होंगे उनकी अच्छी शिक्षा में भी पैसे लगेंगे अब कहाँ से पैसे आएंगे मतलब आपको बच्चे के जन्म के बाद 21 वर्ष तक उसकी अच्छी शिक्षा के लिए मजदूरी करना पड़ेगा जो आपके माता पिता आपके लिए पहले ही कर चुके हैं। उसके बाद आप शौक कब करेंगे क्या आप एक अच्छा जीवन बिता पाएंगे शायद नहीं

इस बात को समझो और अपनाओ तो आप Padhai me top kar payenge और aapka man padhai me khoob lagega.

अभी समय है इन बातों पर विचार कीजिये। पढाई लिखाई कीजिये । अपने माता पिता के मेहनत को सफल बनाइये। आपको माता पिता को आपकी सफलता का बहुत ही अधिक इंतजार है।

और एक बात ध्यान में रखिए:

'मेहनत तो करनी पड़ेगी चाहे विद्यार्थी जीवन के 21 वर्ष आराम से या मरते दम तक परेशान होकर'

Related: पढाई  में मन कैसे लगाएं। भाग- 2

ऐसे ही मोटिवेशनल लेख के हमें फॉलो कर सकते हैं ।
Padhai me man lagane ke tarike, padhai me man lagane ka mantra
Padhai ma man kaise lagaye


Padhai me man kaise lagaye: padhai me man lagane ka mantra


Padhai me man kaise lagaye, Padhai me man lagane ke upay, padhai me man lagane ka Mantra, Padhai karne ke tarike, padhai me man lagana आदि सभी टॉपिक पर आप यहाँ लेख पाएंगे



इस विचार आप अपनी प्रतिक्रिया हमें कमेंट बॉक्स लिख सकते है।

Post a Comment

1 Comments

  1. Ekdam sahi ...mehnat to karni hi padegi isliye shuruaat me hi kar leni chahiye.

    ReplyDelete